Boats

boats

The Taoists have a famous teaching about an empty boat that rams into your boat in the middle of a river. While you probably wouldn’t be angry at an empty boat, you might well become enraged if someone were at its helm. The point of the story is that the parents who didn’t take care of you, the other kids who teased and bullied you as a child, the driver who aggressively tailgated you yesterday – are all in fact empty, rudderless boats. They were compulsively driven to act as they did by their own un-examined wounds, therefore they did not know what they were doing and had little control over it. Just as an empty boat that rams into us isn’t targeting us, so too people who act unkindly are driven along by the unconscious force of their own wounding and pain.
Until we realize this, we will remain prisoners of our grievance, our past, and our victim identity, all of which keep us from opening to the more powerful currents of life and love that are always flowing through the present moment.
#Taoism

कुछ बोध कथाएँ

अपनी झोली

Group_of_Thugs

दो आदमी यात्रा पर निकले। दोनों की मुलाकात हुई। दोनों यात्रा में एक साथ जाने लगे। दस दिनों के बाद दोनों के अलग होने का समय आया तो एक ने कहा, ‘भाईसाहब! एक दस दिनों तक हम दोनों साथ रहे। क्या आपने मुझे पहचाना?’ दूसरे ने कहा, ‘नहीं, मैंने तो नहीं पहचाना।’ वह बोला, ‘माफ़ करें मैं एक नामी ठग हूं। लेकिन आप तो महाठग हैं। आप मेरे भी उस्ताद निकले।’

‘कैसे?’ ‘कुछ पाने की आशा में मैंने निरंतर दस दिनों तक आपकी तलाशी ली, मुझे कुछ भी नहीं मिला। इतनी बड़ी यात्रा पर निकले हैं तो क्या आपके पास कुछ भी नहीं है? आप बिल्कुल ख़ाली हाथ हैं?’

‘नहीं, मेरे पास एक बहुत क़ीमती हीरा है और एक सोने का कंगन है ।’

‘तो फिर इतनी कोशिश के बावजूद वह मुझे मिले क्यों नहीं?’

‘बहुत सीधा और सरल उपाय मैंने काम में लिया। मैं जब भी बाहर जाता, वह हीरा और सोने का कंगन तुम्हारी पोटली में रख देता था। तुम सात दिनों तक मेरी झोली टटोलते रहे। अपनी पोटली संभालने की जरूरत ही नहीं समझी। तुम्हें मिलता कहाँ से?’

कहने का मतलब यह कि हम अपनी गठरी संभालने की ज़रूरत नहीं समझते। हमारी निगाह तो दूसरों की झोली पर रहती है। यही हमारी सबसे बड़ी समस्या है। अपनी गठरी टटोलें, अपने आप पर दृष्टिपात करें तो अपनी कमी समझ में आ जाएगी।

 सीमा

Old Woman India

सड़क किनारे एक बुढ़िया अपना ढाबा चलाती थी। एक यात्री आया। दिन भर का थका, उसने विश्राम करने की सोची। बुढिया से कहा, ‘क्या रात के लिए यहाँ आश्रय मिल सकेगा?’ बुढिया ने कहा, क्यों नहीं, आराम से यहां रात भर सो सकते हो।’

यात्री ने पास में पड़ी चारपाइयों की ओर संकेत कर कहा, ‘इस पर सोने का क्या चार्ज लगेगा?’ बुढ़िया ने कहा, ‘चारपाई पर सोने के लिए दस रूपए लगेंगे।’ यात्री ने सोचा रात भर की ही तो बात है। बेकार में दस रूपए क्यों खर्च की जाए। आंगन में काफी जगह है, वहीं सो जाऊंगा।

यह सोचकर उसने फिर कहा, ‘और अगर चारपाई पर न सोकर आंगन की ज़मीन पर ही रात काट लूँ तो क्या लगेगा?’ ‘फिर पूरे सौ रूपए लगेंगे -‘ बुढ़िया ने कहा।

बुढ़िया की बात सुन यात्री को उसके दिमाग पर संदेह हुआ। चारपाई पर सोने के दस रूपए और भूमि पर चादर बिछाकर सोने के लिए सौ रूपए – यह तो बड़ी विचित्र बात है। उसने बुढिया से पूछा, ‘ ऐसा क्यों?’

बुढ़िया ने कहा, ‘चारपाई की सीमा है। तीन फुट चौड़ी, छह फुट लंबी जगह ही घेरोगे। बिना चारपाई सोओगे तो पता नहीं कितनी जगह घेर लो।’ सीमा में रहना ही ठीक है। असीम की बात समस्या पैदा करती है।

भारतीय नरक

indian hell

एक बार एक भारतीय व्यक्ति मरकर नरक में पहुँचा,
तो वहाँ उसने देखा कि प्रत्येक व्यक्ति को किसी भी देश के नरक में जाने की छूट है ।
उसने सोचा, चलो अमेरिकावासियों के नरक में जाकर देखें, जब वह वहाँ पहुँचा तो द्वार पर पहरेदार से उसने पूछा – क्यों भाई अमेरिकी नरक में क्या- क्या होता है ? पहरेदार बोला – कुछ खास नहीं, सबसे पहले आपको एक इलेक्ट्रिक चेयर पर एक घंटा बैठाकर करंट दिया जायेगा, फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे लिटाया जायेगा, उसके बाद एक यमदूत आकर आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोड़े बरसायेगा…
बस! यह सुनकर वह व्यक्ति बहुत घबराया औरउसने रूस के नरक की ओर रुख किया, और वहाँ के पहरेदार से भी वही पूछा, रूस के पहरेदार ने भी लगभग वही वाकया सुनाया जो वह अमेरिका के नरक में सुनकर आया था । फ़िर वह व्यक्ति एक- एक करके सभी देशों के नर्कों के दरवाजे जाकर आया, सभी जगह उसे एक से बढकर एक भयानक किस्से सुनने को मिले । अन्त में थक- हार कर जब वह एक जगह पहुँचा, देखा तो दरवाजे पर लिखा था “भारतीय नरक” और उस दरवाजे के बाहर उस नरक में जाने के लिये लम्बी लाईन लगी थी, लोग भारतीय नरक में जाने को उतावले हो रहे थे, उसने सोचा कि जरूर यहाँ सजा कम मिलती होगी…
तत्काल उसने पहरेदार से पूछा कि यहाँ के नरक में सजा की क्या व्यवस्था है ? पहरेदार ने कहा – कुछ खास नहीं…सबसे पहले आपको एक इलेक्ट्रिक चेयर पर एकघंटा बैठाकर करंट दिया जायेगा, फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे लिटाया जायेगा, उसके बाद एक यमदूत आकर आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोड़े बरसायेगा… बस !

चकराये हुए व्यक्ति ने उससे पूछा – यही सब तो बाकी देशों के नरक में भी हो रहा है, फ़िर यहाँ इतनी भीड क्यों है ? पहरेदार बोला – इलेक्ट्रिक चेयर तो वही है, लेकिन बिजली नहीं है, कीलों वाले बिस्तर में से कीलें कोई निकाल ले गया है, और कोड़े मारने वाला यमदूत सरकारी कर्मचारी है, आता है, दस्तखत करता है और चाय-नाश्ता करने चला जाता है…औरकभी गलती से जल्दी वापस आ भी गया तो एक-दो कोड़े मारता है और पचास लिख देता है…चलो आ जाओ अन्दर !!

 

Maun Vrata

Image

Soon after watching ‘Ankhon Dekhi‘ a 2014 Hindi language film by Rajat Kapur, I was reminded of an incident which happened around 12-13 years ago during my hostel life in JNU (Delhi, India). There was one co-resident of our hostel who suddenly decided one day, that he would be silent for the whole day once in a week. During this time, he would neither speak nor listen to anybody. If needed he would convey his messages in writing. At that time I found this as a very strange behavior, and laughed at the prospect of being silent for such a long time. But Now when I think of this whole episode, I find the practice of being silent quite an enchanting way to achieve peace and self-understanding. We are so much full of noise and voices – inner as well as outer. Silence is valued very highly in the Indian traditions. Indian religious doctrines talk of a maun vrata (मौन व्रत literally ‘obligation of silence’) which was practiced by ascetics and monks of Hindu-Jain-Buddhist and Sufi traditions. It is said that silence helps one to control one’s voice. And a clear conscience helps us to resolve our problems ourselves. Silence (maun मौन) gives shelter to speech (vani वाणी) as the nest gives it to a bird. One can express much more with silence than by speaking. There is a famous Arabic proverb which says – on the tree of silence grows the fruits of peace. There is one Buddhist tale from the life of king of Magadha empire Ajatshatru about the significance of silence. The story goes on like this –

Near the capital of Ajatshatru’s empire, Gautam Buddha was meditating with his 1000 disciples in a Mango grove in Rajagraha (current days Bihar). At the same time Ajatshatru was not keeping well and he was persuaded by his physician Jivaka to go and visit Buddha in Rajagraha. Earlier under the influence of his mentor Devdutta, king Ajatshatru had killed his father Bimbisar to become the emperor of the Magadha empire. He also had conspired to eliminate Buddha on the advice of Devdutt. Therefore after much reluctance, king Ajatshatru conceded to visit Buddha in the mango grove. So a day later when Ajatshatru entered into the mango grove along with Jivaka, the physician, there was much silence in the forest and that made him tremble with fear and he suspected this as a ploy to kill him by his conspirators. He drew out his sword and asked his companions about where are the thousand people they were talking about. And that he had been here earlier as well, but this jungle was never so silent, even the birds were silent that day.Then he saw Buddha sitting under a mango tree, and a thousand monks sitting silently in meditation. A little while later, when Buddha opened his eyes, the king asked him about why everything was so still and calm here, as if everybody was dead there?

Buddha replied – a lot of things have happened to them, they are no more mad. Until unless one is silent and calm with oneself, one cannot know the existence, what is life, what is happiness and what are the blessings of life. Today in the company of a thousand of silent monks, even the trees, animals and birds have joined chorus of the song of silence. Buddha forgave Ajatshatru for his misdeeds and told him to follow the path of peace. That night for the first time the king slept well. This visit of the king Ajatshatru is famously depicted at the site of Buddhist Stupa in Bharhut in Madhya Pradesh (india). 

Another tale relates to the famous esotericist Peter D. Ouspensky. Ouspensky under the influence of his teacher George Ivanovich Gurdjieff, went into a month of silence and seclusion in a house in Russia. He lived in a dark room for 30 days, with nothing to read or listen to. His food was given at regular interval without any communication. On 31st day when Ouspensky came out of the room and he roamed on the streets, everything looked to him like a miracle or dream or maya. People walking on the streets seemed to him like unconscious (crazy) people moving aimlessly. He felt a new surge in his senses, his sensitivity and  inquisitiveness had increased manifold in last 30 days. He has written about it in detail in his book ‘In Search of Miraculous’. Probably this dream world is what is called Maya by great Hindu philosopher-saint Adi Sankaracharya.

I also felt, a child until she starts speaking, is doing some kind of silent meditation, looking-gaping at the world with a very different vision. As soon as she starts speaking-listening, she starts drifting away from the reality and joins us in this imaginary world.  

Let us be silent, that we may hear the whisper of God.

आदमी और शेर

Japanese Tiger

 

 

 

 

 

 

 

 

 

जापानी ज़ेन बोधकथा

एक समय की बात है। एक आदमी जंगल के रास्ते अपने गाँव जा रहा था। दोपहर का वक्त था। आदमी गुनगुनाते हुए आराम से पैदल चला जा रहा था। तभी अचानक उसके सामने एक बाघ आ गया। बाघ उसे दूर से देखकर गुर्राया। अपनी जान बचाकर आदमी वहाँ से भाग खड़ा हुआ। बाघ भी उसके पीछे भागने लगा। भागते-भागते आदमी एक पहाड़ी के ऊपर चढ़ गया। बाघ भी पहाड़ी पर चला आया। जान बचाने की कोशिश में आदमी पहाड़ी की चोटी से झूलती एक बेल को पकड़कर लटक गया। बाघ का गुर्राना धीरे-धीरे कम होता गया। आदमी बेल से लटका रहा है। तभी पहाड़ी की ओट से दो चूहे बाहर निकल आये। आदमी जिस बेल को पकड़कर लटका हुआ था वे चूहे उसे अपने दाँतो से कुतरने लगे। आदमी की हालत और बुरी हो गई। वह बहुत निराश हो गया। तभी उसी बेल पर आदमी को एक लाल जंगली रसभरी का फल लटका हुआ दिखाई दिया। आदमी ने उस फल को तोड़ा और गप्प से मुँह में डाल लिया। वह रसभरी का फल बहुत मीठा और स्वादिष्ट था।

(इसका मतलब है। वर्तमान का मज़ा लीजिए। भूत और भविष्य की चिंता छोड़िए।)

हिन्दी अनुवाद – अभिषेक अवतंस

राजा का मिज़ाज

एक समय की बात है एक राज्य के राजा ने सोचा कि वह भेष बदलकर अपनी प्रजा के हालात का मुआयना करेगा। पूरे दिन अपने राज्य में घूमने के बाद उसे गरीब लोग मेहनत करते दिखे। उनके चेहरे पर कोई भाव नहीं था। राजा को लगा कि शायद लोग उसके राज में खुश नहीं है।

अगले दिन उसने तुरंत अपने मंत्रियों को बुलवाकर राज्य में यह मुनादी करवा दी कि आज से राज्य का हर आदमी हमेशा हँसता रहेगा। अगर कोई आदमी हँसता हुआ नहीं पाया गया तो उसे फाँसी पर लटका दिया जाएगा। बस फिर क्या सब लोग हँसने लगे। कोई रोता भी तो छिप-छिप के रोता। कोई झगड़ता भी तो हँस-हँस के झगड़ता। समय बीतता गया। कुछ साल बाद एक दिन राजा का बेटा (राजकुमार) जंगल में शिकार खेलते हुए घोड़े से गिरकर मर गया। राजा उस समय अपने दरबार में बैठा था।

दूत ने वहाँ आकर हँसते हुए कहा कि राजकुमार अब इस दुनिया में नहीं रहे। इसपर मंत्रियों ने भी हँस-हँस कर अपना दुख प्रकट किया। यह देखकर राजा आगबबूला हो गया। उसने गुस्से में कहा – यहाँ मेरा बेटा मर गया और तुम सबलोग हँस रहे हो। आज से कोई नहीं हँसेगा। आज से सबलोग हमेशा रोएंगे। अगर कोई आदमी रोता हुआ नहीं पाया गया तो उसे फाँसी पर लटका दिया जाएगा। फिर क्या सब लोग हमेशा रोने लगे। कोई अधिक खुश भी हो जाता तो ज़ोर-ज़ोर से रोने लगता। कोई झगड़ता भी तो रो-रो कर झगड़ता। समय बीतता गया।

कुछ साल बाद एक दिन राजा की रानी ने एक पुत्र को जन्म दिया। दूत ने दरबार में आकर रोते हुए यह खुशखबरी सुनाई। दरबार में बैठे मंत्रियों ने रोते हुए राजा को बधाई दी। यह देखकर राजा ने गुस्से में कहा – मेरा बेटा पैदा हुआ है और आप लोग रो रहे हैं। आज से कोई नहीं रोएगा। तब सब लोग फिर भावहीन हो गए।
इसलिए कहा गया है राजा के सामने हँसे तो भी ग़लत है और रोए तो ग़लत। यानी कि बॉस इज ऑलवेज राइट। 🙂
(शुक्रिया मेरे पुराने दफ्तर के दुबे जी (सचिवालय) का जिन्होंने मुझे एक दिन यह कहानी सुनाई थी।)

Kashmiri Folktale

Kashmiri folktale
Once upon a time, a man was travelling to another village. On the way to his destination, he sat down to relax under a Walnut tree. After few minutes, he saw some vines of Pumpkin growing nearby. Then he said to himself:

O God you are so absent-minded. This Walnut tree is so big but you gave it such small and tiny fruits. And these Pumpkins vines are so weak and thin but you gave them such unusually large fruits. He said this to himself and laughed.
After sometime.
A small Walnut fruit dropped on his head from the above.

The man then muttered:
O God you are so kind and caring. What if the Pumpkin sized walnut grew on this tree. Then I would not have been alive to speak further.

(Translated in English by Abhishek Avtans)

ज़ेन विचारप्रद कथाएँ

Japanese Green Tea fable

चाय का प्याला (The Cup of Tea)

जापान के मेइजी काल में एक बार एक ज़ेन साधु नान-इन के पास एक विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ज़ेन बौद्ध दर्शन का ज्ञान लेने के लिए आए। नाइ-इन ने उनके लिए हरी चाय बनाई। उन्होंने प्रोफेसर साहब के प्याले में चाय भर दी और तब तक भरते रहे जब तक प्याले से चाय बाहर न बहने लगी। इसे देख प्रोफेसर साहब ने कहा – बस-बस अब इसमें और चाय नहीं समा पाएगी।
नान-इन ने कहा – आप भी इसी प्याले की तरह हैं, आप भी अपनी विचारधाराओं, अवधारणाओं और मान्यताओं से भरे हुए हैं। पहले अपना प्याला तो खाली कीजिए तब ही ज़ेन का ज्ञान आपके अंदर समा पाएगा।

Zen garden

बोझ (The Burden)

जापान के कामाकुरा शहर में एक शाम दो ज़ेन बौद्ध साधू अपने मठ की ओर वापस जा रहे थे। बारिश होने के कारण जगह-जगह रास्ते में पानी जमा हुआ था। एक स्थान पर एक खूबसूरत औरत उदास होकर खड़ी थी। वह पानी से भरे गढ्ढे को नहीं पार कर पा रही थी। दोनों साधुओं में से बूढ़ा वाला साधू उसके पास गया और उसने औरत को अपनी गोद में उठाकर पानी से भरा गढ्ढा पार करवा दिया। दोनों साधु कुछ देर बाद अपने मठ पहुँच गए।
रात में सोने से पहले जवान साधू ने बूढ़े साधू से पूछा – गुरू जी ….एक साधू के लिए किसी औरत को छूना मना है ना?
बूढ़े साधू ने कहा – हाँ मना है।
फिर जवान साधू ने तपाक से पूछा – फिर शाम को सड़क किनारे आपने उस औरत को अपनी गोद में क्यूँ उठा लिया था?
बूढ़े साधु ने मुस्कुराते हुए कहा – मैंने तो उस औरत को उठाकर वहीं सड़क पर छोड़ दिया था, पर तुम तो अभी तक उसका बोझ उठाए हुए हो।

Japanese Zen Buddhism

ज्ञान (The Knowledge)

जापान में एक युवा बौद्ध भिक्षुक को किसी ने बताया की कामाकुरा शहर के पश्चिम में एक बौद्ध मठ है जहाँ दुनिया का सबसे महान ज्ञान प्राप्त किया जा सकता है। युवा बौद्ध भिक्षुक ने वहाँ जाने का निश्चय किया और अपने मठ से यात्रा पर निकल पड़ा। काफी दूर चलने के बाद तीसरे दिन वह एक नदी के पास पहुँच गया। आगे का रास्ता नदी को पार कर ही पूरा किया जा सकता था। लेकिन नदी में पानी अधिक था और भिक्षुक को तैरना नहीं आता था। भिक्षुक काफी देर तक माथा-पच्ची करता रहा कि किसी तरह वह नदी को पार कर दूसरी तरफ चला जाए। लेकिन उसे सफलता नहीं मिली। अंतत: वह हार मानकर वहीं बैठ गया। तभी उसे नदी के दूसरे किनारे पर एक बूढ़ा बौद्ध साधू बैठा दिखाई दिया। युवा भिक्षुक ने चिल्लाकर उससे पूछा – गुरू जी मुझे महान ज्ञान प्राप्त करने के लिए नदी की दूसरी तरफ जाना है, कोई उपाय बताइए?
बूढ़े साधू ने कुछ देर सोचने- विचारने के बाद जोर से चिल्ला कर कहा –
बेटा तुम दूसरी तरफ ही हो।

(हिंदी अनुवाद – अभिषेक अवतंस)