लैंग्स्टन ह्यूज़ की कविता ’नीग्रो’


Hindi translation of ‘Negro’ by famous Afro-American poet James Mercer Langston Hughes.

Image

नीग्रो

—– लैंग्स्टन ह्यूज़ (1902-1967)

मैं एक नीग्रो हूँ।
काला जैसे रात काली है।
काला जैसे मेरे अफ्रीका की गहराइयाँ।

मैं एक गुलाम रहा हूँ।
सीज़र ने मुझे उसके पायदान साफ़ रखने का आदेश दिया है।
मैंने वाशिंगटन साहब के जूते चमकाए हैं।

मैं एक मजदूर रहा हूँ।
मेरे कंधों से मिस्र के पिरामिड ऊपर उठे हैं।
मैंने वूलवर्थ बिल्डिंग के लिए गारा तैयार किया है।

मैं एक गायक रहा हूँ।
अफ़्रीका से लेकर जॉर्जिया तक मैं अपने दर्द भरे गीत गाता आया हूँ।
मैंने रैगटाइम संगीत को रचा है।

मैं एक पिड़ित रहा हूँ।
बेल्जियम वालों ने कॉंगो में मेरे हाथों को काटा है।
वे अब भी मिसिसिप्पी में मुझे फाँसी पर लटकाते हैं।

मैं एक नीग्रो हूँ।
काला जैसे रात काली है।
काला जैसे मेरे अफ्रीका की गहराइयाँ।

#### हिन्दी अनुवाद – अभिषेक अवतंस #####black

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s